Thursday, July 29, 2021
Home Blog

डॉ० कन्हैया सिंह ने बनाया काराकाट का प्रभारी

0

डॉ० कन्हैया सिंह ने बनाया काराकाट का प्रभारी
शिक्षाविद व प्रख्यात नेता डॉ० कन्हैया सिंह , प्रदेश अध्यक्ष जदयू (शिक्षा प्रकोष्ठ ) ने डॉ० प्रकाश चन्द्र गोयल उर्फ अम्बुज सर को दिनांक 23.07.2021 को हीं काराकाट लोकसभा का प्रभारी नियुक्त किये जिससे काराकाट व प्रदेश भर के शिक्षक , छात्र व आम जनता में खुशी की लहर दौड़ गई व डॉ० गोयल को राज्य व देश भर से बधाईयाँ व शुभकामनाओं का सिलसिला अभी तक जारी हीं हैं ।
आज डॉ० पी० सी० गोयल का कहना हैं कि – “मैं स्वेच्छा से एक कार्यकर्ता के रूप मेँ जदयू से दिनांक 10-12-2005 को जुड़ा, डॉ० कन्हैया सिंह सर मुझे दिनांक 19.01.2020 को जदयू ( शिक्षा ) का प्रदेश सचिव बनायें और अब दिनांक 23.07.2021 को एक अतिरिक्त ज़िम्मेदारी दी गई है । जदयू पार्टी का मुझपर लगातार भरोसा के लियेँ मैं माननीय मुख्यमंत्री श्री नितीश कुमार जी , राष्ट्रिय अध्यक्ष श्री आर० सी० पी० सर जी ,प्रदेश अध्यक्ष जदयू (शिक्षा प्रकोष्ठ ) डॉ० कन्हैया सिंह सर , प्रदेश प्रवक्ता एडवोकेट श्री प्रशांत किशोर सर देश व प्रदेश भर के सभी पदाधिकारी कार्यकर्ता व आम जनता को मैं हृदय के अंत: कण से आभार प्रकट करते हुए सफलता पूर्वक ज़िम्मेदारी निभाने का वादा करता हूँ ।“
ज्ञात हो कि डॉ० प्रकाश चन्द्र गोयल ( अम्बुज सर ) मगध विश्वविधालय के श्रम एवं समाज कल्याण विभाग में सहायक प्राध्यापक के रूप में सेवा देते आ रहे हैं और बहुत हीं लोकप्रिय हैं । 2019 मे लोकसभा का चुनाव भी रह चुके हैं ।
डॉ० गोयल दिनांक 22.07. 2020 को पार्टीहित व विधानसभा मे जित दिलवाने के लिए । Topic :- “ जन जनाधिकार और जदयू सरकार “ ( Voice of Bihar ) के तहत फेसबुक लाईव पर विलक्षण प्रतिभावान भाषण देकर पूरे बिहार व देशवासियों का दिल जीत चुके हैं ।
आज भी डॉ० गोयल को विधान सभा नोखा , काराकाट , डीहरि , नवीनगर , ओबरा व गोह के अनेकों अनुमान्य व क्षेत्रीय नेताओं के साथ – साथ प्रोफेसर डॉ० राजेश कुमार , डॉ० देवेन्द्र कुमार सिंह , पूर्व प्रत्याशी (ओबरा ) श्री सुनील कुमार , शिक्षाविद व राजनीतिक विश्लेषक गोपेन्द्र कुमार (गोह ), डॉ० अनिश कुमार (ओबरा) , पत्रकार राजेश कुमार (डेहरी), एडवोकेट शमशेर आलम (सासाराम काराकाट), राजेश माँझी (नवीनगर) पिन्टु मिश्रा (नोखा) व सैकड़ों गणमान्य लोगों ने बधाईयाँ दिये ।

शाहाबाद में टुरिज्म डवलपमेंट के लिए पहली बार एकजुट दिखे जनप्रतिनिधि

0


सभी दलों के नेताओं ने ली विकास की शपथ
पटना- बिहार विधान परिषद् हॉल में आज शाहाबाद क्षेत्र के विधायक एंव विधान परिषद् सदस्यों की एक बैठक हुई। शाहाबाद महोत्सव आयोजन समिति के संयोजक अखिलेश कुमार के पहल पर यह बैठक सभापति माननीय अवधेश नारायण सिंह के अध्यक्षता में सम्पन्न हुई। जिसमें आजादी के बाद पहली शाहाबाद यानि वर्तमान भोजपुर, रोहतास, कैमूर तथा बक्सर जिले के प्राकृतिक सौन्दर्य से परिपूर्ण मनोरम स्थलों के साथ हीं ऐतिहासिक, धार्मिक, सांस्कृतिक महत्व वाले स्थलों को केंद्र में रखकर पर्यटन को बढावा देने के लिए सामुहिक प्रयास करने का निर्णय सभी दलों के नेताओं ने लिया। उपस्थित माननीय सदस्यों ने कहा कि शाहाबाद की धरती सतयुग के राजा हरिश्चन्द्र काल से लेकर आधुनिक काल तक के गौरवशाली इतिहास को समेटे हुए है। यहां विन्ध्यगिरी पर्वत श्रृंखला के कैमूर पहाड़ी पर मनोरम प्रकृति दृश्य के साथ रोहतासगढ़, शेरगढ़ किला, भगवान राम को शस्त्र और शास्त्र दोनों का शिक्षा स्थल बक्सर, शक्तिपीठ ताराच॔डी धाम, मुंडेश्वरी धाम, भलुनीधाम, आयरन देवी, ब्रमहेश्वर स्थान, वीर कुंवर सिंह की जन्मभूमि जगदीशपुर, इन्द्रपुरी जलाशय, दुर्गावती जलाशय, दरिया साहब का जन्मभूमि धरकन्धा आदि महत्वपूर्ण धरोहर वाले स्थलों जोड़कर शाहाबाद के एक टुरिज्म सर्किट बनाकर पर्यटकों को आकर्षित किया जाए। वक्ताओं ने कहा कि शाहाबाद अन्तर्राष्ट्रीय पर्यटन स्थल वाराणसी-सारनाथ तथा बोध गया के बीच में अवस्थित है और यहाँ के प्रकृतिक बनावट काफी आकर्षक तथा ऐतिहासिक, धार्मिक और सांस्कृतिक महत्व गौरवशाली है। इसलिए अपनी मातृभूमि और कर्मभूमि को अन्तर्राष्ट्रीय पर्यटन स्थल के रूप में विकसित करने की सामुहिक रूप प्रयास किया जाना चाहिए।
आज के इस बैठक में बिहार विधान परिषद् के सभापति अवधेश नारायण सिंह के अलावा अल्पसंख्यक कल्याण मंत्री मो जमा खान, विधान परिषद् में जदयू के सदस्य संजीव श्याम सिंह, भाजपा के निवेदिता सिंह, कॉंग्रेस के विधायक मुरारी कुमार गौतम, राजद विजय कुमार मंडल, सुधाकर सिंह, संगीता कुमारी, राजेश गुप्ता, संगीता कुमारी, आदि ने शिरकत की।

सार्वजनिक स्थलों पर किसी भी प्रकार के आयोजन सरकारी एवं निजी पर रोक रहेगी-डीएम

0

डॉ शशि कांत सुमन
मुंगेर। राज्य में कोरोना संक्रमण की स्थिति को नियंत्रित रखने हेतु गृह विभाग (विशेष शाखा) बिहार द्वारा प्राप्त निदेश के आलोक में मुंगेर जिला में विभिन्न प्रतिबंधों के आलोक में निषेधाज्ञा प्रभावी है। विशेष परिस्थितियों को लागू करते हुए रात्रि 09ः00 बजे से प्रातः 05ः00 बजे तक रात्रि कर्फ्यू प्रभावी है। सभी धार्मिक स्थल आमजनों को लिए बंद रहेंगे। सार्वजनिक स्थलों पर किसी भी प्रकार के आयोजन सरकारी एवं निजी पर रोक रहेगी। सभी प्रकार के सामाजिक,राजनीतिक, मनोरंजन, खेल-कूद,शैक्षणिक,सांस्कृतिक एवं धार्मिक आयोजन,समारोह प्रतिबंधित होंगे। देवघर स्थित बाबा बैद्यनाथ मंदिर को राज्य सरकार के निदेशानुसार बन्द रखा गया है। गृह मंत्रालय, भारत सरकार तथा तत्संबंधी राज्य सरकार द्वारा निर्गत दिशा निर्देश में भी अगले आदेश तक तत्काल कोई धार्मिक आयोजन पर प्रतिबंध लगाया गया है। उपरोक्त स्थिति में बाबा बैद्यनाथ मंदिर, देवघर में दर्शन-पूजन की व्यवस्था पूर्णतः अवरुद्ध है। सभी अनुमंडल पदाधिकारी,अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी, मुंगेर जिला को निदेश दिया गया है कि आवश्यकतानुसार गंगा घाटों एवं मंदिर परिसर विशेषकर शिव मंदिर पर निगरानी के लिए पर्याप्त संख्या में दण्डाधिकारी, पुलिस पदाधिकारी, पुलिस बल की प्रतिनियुक्ति करते हुए उपर्युक्त निदेशों का अक्षरशः अनुपालन सुनिश्चित करेंगे, ताकि कोरोना वायरस के संक्रमण की स्थिति को नियंत्रित किया जा सके एवं इस महामारी के प्रकोप से लोगों को बचाया जा सके।

पंचायती राज व्यवस्था को सुदृढ करने के लिए संशोधन विधेयक को कैबिनेट दी स्वीकृति

0

डीडीसी व बीडीओ का पावर हुआ कम

डॉ शशि कांत सुमन

पटना। बिहार में पंचायती राज व्यवस्था को सुदृढ करने के लिए पंचायती राज अधिनियम 2006 संशोधन विधेयक को कैबिनेट ने स्वीकृति दे दी है। इसके साथ ही उप विकास आयुक्त (डीडीसी) अब जिला परिषद के मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी नहीं रहेंगे। वहीं, प्रखंड विकास पदाधिकारी (बीडीओ) पंचायत समिति के कार्यपालक पदाधिकारी की जिम्मेदारी से मुक्त होंगे। जिला परिषद में डीडीसी की जगह बिहार प्रशासनिक सेवा के नये पदाधिकारी पदस्थापित किये जाएंगे। जबिक बीडीओ की जगह प्रखंड के पंचायती राज पदाधिकारी को कार्यपालक पदाधिकारी बनाया जाएगा। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की अध्यक्षता में शुक्रवार को हुई राज्य कैबिनेट की बैठक में इसकी मंजूरी दी गई। इसको लेकर पंचायती राज अधिनियम, 2006 में संशोधन विधेयक अब विधानमंडल के मॉनसून सत्र में पेश किया जाएगा। जिला परिषद में मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी उप सचिव स्तर के पदाधिकारी होंगे। ये सिर्फ जिला परिषद का काम देखेंगे। डीडीसी के जिम्मे और भी कई कार्य होते हैं, जिसके कारण जिला परिषद के काम पर वह पूरा ध्यान नहीं दे पाते हैं। इसको देखते हुए राज्य सरकार ने यह निर्णय लिया है। विभाग से पास जिलों और प्रखंडों से यह लगातार शिकायतें आती रही थीं कि डीडीसी और बीडीओ पंचायत के काम पर पूरा ध्यान नहीं दे पा रहे हैं। अन्य भी कई जिम्मेदारियां उन पदाधिकारियों पर है। इस कारण से जिला परिषद और पंचायत का काम प्रभावित हो रहा है। विभाग ने लगातार समीक्षा के दौरान भी यह महसूस किया था। वहीं जिला परिषद अध्यक्षों और सदस्यों की भी यह मांग रही है। मालूम हो कि मुख्य कार्यपालक पदाधिकारी ही जिला परिषद के सभी कर्मियों के नियंत्री पदाधिकारी होते हैं। जिला परिषद द्वारा जो भी प्रस्ताव पारित किये जाते हैं, उन सभी कार्यों का कराना और पूरा करने की जवाबदेही उनकी होती है। वहीं प्रखंड स्तरीय समिति के सभी कर्मियों पर पंचायत समिति के कार्यपालक पदाधिकारी का नियंत्रण होता है।

मॉनसून सत्र में विधानमंडल से अधिनियम में संशोधन विधेयक पारित होने के बाद राज्यपाल से इस पर सहमति ली जाएगी। राज्यपाल की सहमति के बाद यह राज्य में लागू हो जाएगा। इसके बाद डीडीसी की जगह नये पदाधिकारियों को पदस्थापित किया जाएगा। वहीं, आदेश जारी कर बीडीओ को पंचायत समिति के कार्य से मुक्त कर दिया जाएगा। उनकी जगह प्रखंड के पंचायत राज पदाधिकारी यह कार्य देखेंगे।

अवैध बालू खनन मामले में सरकार ने की बड़ी कार्रवाई 2 एसपी और 4 डीएसपी समेत 13 अफसर सस्पेंड

0

डॉ शशि कांत सुमन

पटना। बिहार में हो रहे अवैध बालू खनन मामले में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को बड़ी कार्रवाई की है। अवैध बालू खनन मामले में मुख्यमंत्री नीतीश सरकार ने बड़ी कार्रवाई करते हुए 2 एसपी, 4 डीएसपी समेत 13 बड़े अफसरों को सस्पेंड कर दिया है। बता दें कि इससे पहले नीतीश कुमार ने चेतावनी दी थी कि दोषी अधिकारियों को किसी भी हाल में बख्शा नहीं जाएगा। ऐसे अधिकारियों पर सख्त से सख्त कार्रवाई की जाएगी। मामले की जांच पड़ताल करने के बाद ही सभी सरकारी कर्मचारी और ऑफिसर पर कार्रवाई की गई है। बिहार में अवैध बालू खनन मामले में राजस्व एवं भूमि सुधार विभाग की ओर से बड़ी करवाई की गई है। इस मामले में दो एसपी और चार डीएसपी समेत 13 अफसरों को निलंबित कर दिया गया है। भोजपुर के तत्कालीन एसपी राकेश कुमार दुबे, औरंगाबाद के तत्कालीन एसपी सुधीर पोरिका, चार डीएसपी तनवीर अहमद, पंकज कुमार रावत, अनूप कुमार और संजय कुमार को निलंबित किया गया है। वहीं एक एसडीएम सुनील कुमार को भी निलंबित किया गया है, जबकि खनन विभाग के छह अधिकारियों को भी निलंबित कर दिया गया है। जिसमें खनन विभाग के सहायक निदेशक संजय कुमार, एमडीओ प्रमोद कुमार, सुरेन्द्र सिन्हा, राजेश कुशवाहां, मुकेश कुमार और खनन निरीक्षक मधुसुधन चतुर्वेदी और रंजित कुमार शामिल हैं।
इस मामले में विभाग ने अनुज कुमार तत्कालीन प्रभारी अंचल अधिकारी कोईलवर, राकेश कुमार तत्कालीन प्रभारी अंचल अधिकारी पालीगंज और बसंतराय तत्कालीन प्रभारी अंचल अधिकारी, वरुणा औरंगाबाद को निलंबित किया है।

पटना का पहला डिजिटल काम्प्लेक्स होगा ‘नम: एक्सक्लूसिव’

0


-शिवाया रियलटेक बना रहा यह भवन
पटना।
अब तक आपने हॉलीवुड की फिल्मों में ही डिजिटल बिल्डिंग देखा या सुना होगा। लेकिन अब पटना में भी ऐसा भवन आपको जल्द देखने को मिलेगा। इस भवन में सब चीजें दूर देश बैठ कर ही हैंडल की जा सकती है। अर्थात बत्ती बुझाने से लेकर एसी ऑन करने का काम डिजिटली ही होगा। इसी तरह दूर बैठ कर अपने घर ही निगहबानी की जा सकेगी। शिवाया रीयलटेक प्राइवेट लिमिटेड ऐसा एक कॉम्प्लेक्स पटना वासियों के लिए ले कर आ रहा है।
दीघा के रामजीचक में बाटा फैक्ट्री के पास मुख्य सड़क पर यह नया कॉम्प्लेक्स ‘नम: एक्सक्लूसिव’ बनने जा रहा है। इसका भूमि पूजन हुआ है। जल्द ही इसकी बुकिंग शुरू हो जाएगी। प्रोजेक्ट के हेड जय सिंह राठौड़ ने बताया कि बिल्डिंग जी+4 होगा। नीचला और पहला तल्ला व्यवसायिक होगा जबकि बाकी आवासीय। 10 कट्ठा में यह कॉम्प्लेक्स बनाया जा रहा है। एक वर्ष के अंदर इसके बन जाने की उम्मीद है। यह पटना का पहला डिजिटल कॉम्प्लेक्स होगा। पूरी बिल्डिंग एलेक्सा कंट्रोल होगी। कार भी लिफ्ट से पार्क होगी। इस तरह के बिल्डिंग में सेंसर लगे होते हैं। साथ कई अन्य सुविधाएं होती है जो बिल्डिंग को स्मार्ट बनाती है। जय सिंह राठौड़ विकासशील इंसान पार्टी(वीआईपी) के कला एवं संस्कृति प्रकोष्ठ के प्रदेश अध्यक्ष हैं। ये अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा (युवा) के भी प्रदेश अध्यक्ष हैं। श्री राठौड़ राजनीति के अलावा सामाजिक कार्यों में भी काफी सक्रिय रहते हैं। भूमि पूजन में विधायक राजू सिंह, आलोक मेहता, उमेश कुशवाहा, अभिमन्यु, संजीव चौरसिया, बिहार के पूर्व डीजी अशोक गुप्ता, कुणाल अग्रवाल आदि मौजूद थे।

जा सकती है इस विधायक की सदस्यता?

0


सारण जिले के माँझी विधानसभा क्षेत्र का राजनीतिक माहौल एक बार फिर गर्म हो गया है। माँझी विधानसभा क्षेत्र से बतौर निर्दलीय उम्मीदवार चुनाव मैदान में उतरे राणा प्रताप सिंह उर्फ डब्लू सिंह ने मुख्य चुनाव आयुक्त को एक आवेदन दिया है। इस आवेदन में राणा प्रताप ने कहा है कि माँझी विधानसभा क्षेत्र के विधायक डॉ सतेन्द्र यादव ने चुनाव के वक्त चुनाव आयोग को दिए गए शपथ पत्र में अपने ऊपर आपराधिक मुकदमो को छुपाया है। दिए गए आवेदन में राणा प्रताप ने कहा है कि माँझी विधायक पर कोपा थाना में कांड संख्या 13/2007 दर्ज है जिसपर सुनवाई जारी है लेकिन सतेन्द्र यादव ने इस मामले का जिक्र अपने शपथ पत्र में नही किया है।
वही राणा प्रताप ने दिए आवेदन में कोपा थाना क्षेत्र में ही दर्ज कांड संख्या 42/2009 का भी जिक्र करते हुए कहा है कि इस मामले की भी जानकारी विधायक सतेन्द्र यादव ने शपथ पत्र में नही दिया है।बातचीत में राणा प्रताप सिंह उर्फ डब्लू सिंह ने कहा कि माँझी विधायक ने अपने ऊपर चल रहे आपराधिक मुकदमो को छिपाने का कार्य किया है। इससे सम्बंधित आवेदन मुख्य चुनाव आयुक्त को दिया गया है साथ ही इस मामले में शीघ्र जांच कर विधायक सतेन्द्र यादव पर कार्यवाई करने की मांग चुनाव आयुक्त से की है।आपको बता दे कि वर्ष 2020 में सम्पन्न हुए बिहार विधानसभा चुनाव में माँझी विधानसभा क्षेत्र से डॉ सत्येन्द्र यादव व राणा प्रताप सिंह आमने सामने थे। सत्येन्द्र यादव को महागठबंधन ने अपना उम्मीदवार बनाया था जबकि राणा प्रताप सिंह निर्दलीय चुनाव लड़े थे।राणा प्रताप सिंह द्वारा मुख्य चुनाव आयुक्त को दिए इस आवेदन के बाद माँझी की राजनीति गरमाने लगी है। इस मामले में माँझी विधायक डॉ सतेन्द्र यादव से सम्पर्क नही हो सका है जिस कारण उनका पक्ष नहीं लिया जा सका है।

सारण स्थानीय निकाय एमएलसी चुनाव में राजद के टिकट की दावेदारी में सुधांशु रंजन है भारी

0

छपरा। सारण स्थानीय निकाय एमएलसी चुनाव में राजद के संघर्षशील कार्यकर्ता सुधांशु रंजन पर राजद दाव लगा सकती है इसके प्रबल संभावना है युवा समाजसेवी सुधांशु रंजन ने सारण से त्रिस्तरीय पंचायत प्रतिनिधियों द्वारा निर्वाचित होने वाले विधान परिषद चुनाव के लिए राजद के उम्मीदवार के रूप में अपनी प्रबल दावेदारी प्रस्तुत की है विगत पांच वर्षों से पूरे जिले में काफी सक्रिय है पंचायत प्रतिनिधियों के हक की बात हो या क्षेत्र में हो रहे सांस्कृतिक खेल आयोजनों की सभाओं में इनकी बढ़-चढ़कर भूमिका होती है वरिष्ठ पत्रकार अनूप नारायण सिंह के साथ खास बातचीत में सुधांशु रंजन ने कहा कि वह विगत डेढ़ दशक से राजद के सिपाही के तौर पर काम कर रहे हैं राजनीति में उनके गुरु मढ़ौरा के जनप्रिय विधायक भाई जितेंद्र कुमार राय हैं उन्हीं के नेतृत्व में दबे कुचले समाज के लिए काम करते हैं निस्वार्थ भावना से वह समाज के उत्थान के लिए कार्य करते हैं जहां कहीं भी शोषण होता है उसके खिलाफ आवाज उठाते हैं पंचायत प्रतिनिधियों के हमारी की बात हो उनके ऊपर हो रहे जानलेवा हमले की बात हो उचित मान सम्मान की बात हो कि बात हो सभी मंचों से पूरी प्रखरता के साथ मुद्दे को उठाते हैं उन्हें पूरा विश्वास है कि राजद अपने कार्यकर्ता को विधान परिषद चुनाव में जरूर मौका देगा उन्होंने कहा कि जो लोग पंचायत प्रतिनिधि के प्रतिनिधि बनकर अब तक विधान परिषद गए हैं उन सब ने सिर्फ और सिर्फ अपना कल्याण किया है पंचायत प्रतिनिधियों के मान सम्मान की रक्षा के लिए वे कभी नजर नहीं आए लेकिन इस बार परिस्थितियां बदलने वाली है गरीब और आम आदमी के बीच का एक बेटा इस बार सदन में जाएगा तो सारण का मान-सम्मान बढ़ेगा पंचायत प्रतिनिधियों के सवालों को पूरी प्रखरता से विधान परिषद में उठाएगा

30 जुलाई तक नगर निगम को पूर्णरूपेण टीका से आच्छादित किया जाएगा-डीएम

0

डॉ शशि कांत सुमन
मुंगेर। नगर निगम संपूर्ण क्षेत्र को 30 जुलाई तक टीका के मामले में आच्छादित कर दिया जायेगा। जमालपुर नगर परिषद क्षेत्र में सभी लोगों ने टीका लगा लिया। इस महाअभियान में जिला पदाधिकारी नवीन कुमार स्वयं सक्रिय होकर लगातार भ्रमणशील है। नगर निगम के वैसे वार्डो को चिह्नित कर वे स्वयं जागरूक करने के लिए निकल रहे है जहां अपेक्षाकृत टीकाकरण प्रतिशत कम है। आज इसी क्रम में वे चैरंबा स्थित मध्य विद्यालय चोरंबा पहुंचे। जहां चल रहे टीकाकरण कार्यक्रम का निरीक्षण किया। डीएम ने सीडीपीओ को अपनी टीम के साथ अलग- अलग समूह में अलग -अलग टोलों मोहल्लों में जाकर प्रत्येक घर से जिन्होंने टीका नहीं लिया है, उन्हें केन्द्र पर लाये और टीका दिलाने का निर्देश दिया। वार्ड पार्षद एवं अन्य मोहल्लेवासियों के साथ जिला पदाधिकारी ने धूम धूमकर लोगों को जागरूक किया। डीएम ने लोगों से आधार कार्ड के साथ सेंटर पहुंचकर टीका लगाने की अपील की। मीडिया को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि लोगों में अब कोरोना टीका को लेकर किसी प्रकार की भांतियाॅ नहीं बल्कि आलस्य है और इसी आलस्य को भगाने के लिए आज हम सभी यहां आये हुए है। उन्होंने लोगों को कहा कि आगामी तीन दिनों तक टीकाकरण हेतु कार्यक्रम नगर निगम क्षेत्र में चलाये जाएगे। इसलिए आप सभी जल्द से जल्द टीका लगा ले और जल्द से जल्द तीसरी लहर से अपने आप को सुरक्षित कर ले। इसके बाद जिला पदाधिकारी ने नीलम चौक स्थित चांद महल में तमाम बुद्धिजीवी वर्ग को संबोधित करते हुए कहा कि टीका एक निरोधात्मक ड्रग है। जिसका कोई साईटइफेक्ट नहीं होता है, बल्कि इससे शरीर में एंटीबडी का निर्माण होता है। और रोग से लड़ने की क्षमता बढ़ती है। उन्होंने कहा कि प्रारंभिक दौर में टीका की मात्रा कम थी तो सबसे पहले स्वास्थ्य कार्यकर्ता, फ्रंटलाईन वर्कर, प्रशासनिक कर्मियों को दिया गया। अब टीका पर्याप्त मात्रा में जिलों को उपलब्ध हो रही है और निःशुल्क इसे दिया जा रहा है। आज यही कारण है कि जिले में पिछले 10 दिनों में मात्र एक संक्रमित व्यक्ति पाये गये। वो भी तामिलनाडू से आये हुए थे। उन्होंने बताया कि जिन्होंने टीका लिया वे सुरक्षित है। इसलिए आप टीका ले और लोगो को भी प्रेरित व जागरूक करे। आपकी सक्रियता एवं सर्मपण को देखते हुए हम सभी तीन दिनों में निगम क्षेत्र को पूर्ण रूप से टीका क्षेत्र में आच्छादित करने में सफल रहेगे। मौके पर सिविल सर्जन हरेन्द्र कुमार आलोक, अनुमंडल पदाधिकारी सदर खगेश चन्द्र झा, डीपीएम स्वास्थ्य नसीम रजी, जिला जन सम्पर्क पदाधिकारी दिनेश कुमार, डीपीओ आईसीडीएस उपस्थित थे।

अब किसी भी सूरत में एमआरपी से अधिक मूल्य पर खाद की बिक्री नहीं होगी-डीएम

0

डॉ शशि कांत सुमन
मुंगेर। संग्रहालय सभागार में जिला पदाधिकारी नवीन कुमार ने सरकारी योजनाओं एवं कार्यालयों के लिए जमीन चिह्नित करने की सिलसिले में संबंधित पदाधिकारियों के साथ बैठक की। उन्होंने कहा कि जिले में कई विकास कार्य धीमी प्रगति या नहीं हो पा रही है। इसके पीछे मुख्य कारण उनके भवन के लिए जमीन की कमी है। इसलिए जमीन को खोजने एवं उन्हें संबंधित विभाग को उपलब्ध कराना अंचलाधिकारी की प्राथमिक दायित्व है। उन्होंने आवास योजना, सामुदायिक शौचालय एवं पंचायत सरकार भवन के निर्माण हेतु जमीन की अनुपलब्धता पर समीक्षा की। सामुदायिक शौचालय निर्माण जिले में 200 इकाई बनाया जाना है। जिला समन्वयक लोहिया स्वच्छ भारत मिशन को टूर प्रोग्राम के साथ क्षेत्र भ्रमण करने तथा प्रखंड विकास पदाधिकारी एवं अंचलाधिकारी से क्रमशः कार्य प्रगति एवं जमीन उपलब्धता के संबंध में समन्वय स्थापित कर कार्य तेजी से कराने का निर्देश दिया। एक माह में सभी शेष 200 इकाई के लिए जमीन खोजकर कार्य प्रारंभ कराये। प्रखंड समन्वयक लगातार धूम कर संबंधित पदाधिकारियो से संपर्क स्थापित कर जमीन ढूढ़े। आवास सहायक को भी प्रधानमंत्री आवास योजना के अन्तर्गत लाभुकों को आवास मुहैया कराने में जमीन चिह्नित करने का निर्देश दिया गया। सदर अंचलाधिकारी को भूमिहीन को बसाने के लिए जमीन खोजने का निर्देश दिया। जानकीनगर पंचायत में कुछ भूमिहीन डिस्ट्रीक बोर्ड के जमीन पर आवासित है। जिला पदाधिकारी ने कहा कि सभी अंचलाधिकारी को जमीन के अभाव में कोई भवन या प्रोजेक्ट नहीं रूके। इसलिए 10 दिनों में विभिन्न योजनाओं के लिए प्राप्त सूची के साथ कार्य करे तथा जमीन उपलब्ध कराये। अगस्त माह के अंतिम तक किसी भी योजना या कार्यालय भवन के लिए जमीन की आवश्यकता शेष न रहे। जिला कृषि पदाधिकारी को पुनः निदेशित किया गया कि किसान सम्मान निधि योजना में आवेदन की संख्या को बढ़ाये। कृषि संबंधी योजनाओं के बारे में विस्तार से बताये। उर्वरक निगरानी कमिटी बनाई गयी है। अब किसी भी सूरत में एमआरपी से अधिक मूल्य पर खाद की बिक्री नहीं करनी है। अन्यथा सख्त कार्रवाई की जायेगी। अंचलाधिकारी, अनुमंडल पदाधिकारी, अपर समाहर्ता इसपर सतत निगरानी बनाये रखेगे। जिला कृषि पदाधिकारी को निदेश दिया गया कि अनुमंडल पदाधिकारी को अधिकृत खाद दुकानों की सूची उपलब्ध करा दे। खाद दुकानों के स्टॉक सूची का दर के साथ मिलान करे। पॉश मशीन से बिक्री किया जाना है। बैठक में अपर समाहर्ता विद्यानंद सिंह, उप विकास आयुक्त संजय कुमार, जिला कृषि पदाधिकारी, सभी अंचलाधिकारी उपस्थित थे।