Tuesday, January 26, 2021
Home बिहार विधायक के पत्र पर राष्ट्रपति सचिवालय ने लिया था संज्ञान लेकिन मुख्य...

विधायक के पत्र पर राष्ट्रपति सचिवालय ने लिया था संज्ञान लेकिन मुख्य सचिव, बिहार नहीं दे रहे ध्यान

पटना, बिहार। बाबा-भागलपुर को विशिष्ट सम्मान देने की मांग करते हुए जमुई जिले के सिकन्दरा के विधायक सुधीर कुमार उर्फ बन्टी चौधरी ने राष्ट्रपति को 24 सितम्बर 2020 को पत्र लिख कर अनुरोध किया था। विधायक के पत्र पर संज्ञान लेते हुए राष्ट्रपति सचिवालय द्वारा 07 अक्तूबर 2020 को विधायक को संबोधित करते हुए पत्र भेजा। पत्र में उल्लेखित किया गया कि आपके अनुरोध पर विचार करते हुए उचित कार्रवाई हेतु मुख्य सचिव, बिहार पटना को अग्रेषित कर दिया गया है।


सिकंदरा के तत्कालीन विधायक सुधीर कुमार उर्फ बन्टी चौधरी ने अपने अनुरोध पत्र में लिखा था कि पं. आर. के. चौधरी उर्फ बाबा-भागलपुर, पिता- श्री मिथिलेश चौधरी, बनगाँव, सहरसा (बिहार) के रहने वाले और वर्तमान में भागलपुर में रहकर 20 वर्षों से महाविद्याओं की साधना में साधनारत हैं। इस दौरान उन्होंने कई धार्मिक, आध्यात्मिक आलेख और विभिन्न विषयों और हस्तियों पर लगातार भविष्यवाणियाँ लिख रहे हैं जो बिहार सहित अन्य कई प्रदेशों के समाचार पत्रों में प्रकाशित हो रही है। सुधीर कुमार, उर्फ बन्टी चौधरी, विधायक ने दावा किया कि बाबा-भागलपुर की 98 प्रतिशत भविष्यवाणियाँ शत-प्रतिशत सच साबित हुई हैं। उन्होंने पत्र के माध्यम से महामहिम राष्टपति को बाबा-भागलपुर की भविष्यवाणियों जो विभिन्न समाचार पत्रों में प्रकाशित हुई थी कि छाया-प्रति पत्र के साथ संलग्न होने की जानकारी भी दी थी।


निवर्तमान विधायक बन्टी चौधरी ने बताया कि बाबा-भागलपुर काली कुल और श्रीकुल के उपासक यानी महाविद्याओं के साधक और तपस्वी हैं। वे विश्व मानव समुदाय के मंगलकामना हेतु विगत 24 मार्च 2020 से 03 अगस्त 20 तक अनवरत मौनव्रत साधना के साथ पूजा-हवन किए फलस्वरूप भागलपुर और उसके आस पास के क्षेत्रों में कोविड-19 के पॉज़िटिव मरीज़ों की संख्या में कमी आई थी।
निवर्तमान विधायक बन्टी चौधरी ने बतलाया कि हमारे पत्र पर राष्ट्रपति सचिवालय ने शीघ्र संज्ञान लिया लेकिन मुख्य सचिव, बिहार ने दो माह से अधिक समय व्यतीत होने के बावजूद अब तक कार्यवाई पर ध्यान नहीं दे रहे हैं। इसलिए इस सन्दर्भ में शीघ्र कार्यवाई हेतु मुख्य सचिव, बिहार से मिलेंगे तथा महामहिम राष्ट्रपति महोदय से मिलकर अनुरोध करेंगे। निवर्तमान विधायक बन्टी चौधरी युवा और दलित के नेता हैं। उन्होंने बताया कि भारत के राष्ट्रपति, राष्ट्राध्यक्ष हैं और भारत के संविधान में यथा निर्धारित शक्तियों का प्रयोग करते हैं। राष्ट्रपति सचिवालय, राष्ट्रपति को उनके संवैधानिक, समारोहिक और अन्य राजकीय दायित्वों के निर्वहन में अनुसचिवीय सहायता प्रदान करता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments