Wednesday, January 27, 2021
Home अपराध भारत नेपाल बॉर्डर से कबाड़ की आड़ में चल रहा तस्करी खेल

भारत नेपाल बॉर्डर से कबाड़ की आड़ में चल रहा तस्करी खेल

अजीत कुमार जानकारी जंक्शन लखीमपुर खीरी

-पलिया कला भारत-नेपाल की खुली सैकड़ों किमी सीमा के करीब बसे कस्बों में कबाड़ के अवैध कारोबार की आड़ में तस्करी का धंधा तेजी से फलफूल रहा है। तस्कर कबाड़ में तस्करी के सामनों को छिपाकर आसानी से सरहद पार कर अपनी जेब भर रहे है। इन पर न तो पुलिस की खास नजर ही है और न ही सीमा सुरक्षा में लगी एजेंसियां ही कबाड़ों की ओर देखती है। जिसका सीधा लाभ तस्कर उठा रहे है। नेपाल से भारतीय क्षेत्र में किसी प्रकार के कबाड़ को वैधानिक तरीके से नहीं लाया जा सकता है क्योंकि कबाड़ लाने पर भारत सरकार ने प्रतिबंध लगा रखा है। माओवादी आन्दोलन के दौरान कई स्थानों पर स्थापित छोटे-बडे़ कारखानों का विस्फोट से उड़ा दिये जाने के कारण वहां के बेकार सामनों को किसी न किसी तरीके से तस्करों के द्वारा खरीददारी कर भारतीय सीमावर्ती क्षेत्रों में पहुंचाया जा रहा है। बिना लाइसेंश के दुकान खोलकर नेपाल के विभिन्न कस्बों से लोहा, तांबा, पीतल, आदि सामान भारतीय क्षेत्र मे विभिन्न चौराहों पर इकट्ठा कर रहे हैं और हर सप्ताह ट्रकों द्वारा बाहर भेजकर माला-माल हो रहे है। इस कार्य मे कारोबारी दोनों तरफ के देशों के लोगों को एजेंट बनाकर नेपाली गावों नेटवर्क फै लाए हैं। उन्हीं के माध्यम से नेपाल में इकट्ठे कबाड़ को पुलिसिया संरक्षण मे चोर रास्तों से भारतीय सीमा मे पहुंचाए जा रहे है। इस कार्य मे तस्कर लाइन मिलने के बाद रात को कबाड़ सीमा के अन्दर खुली दुकानो तक पहुंचा देते हैं। इस कार्य मे पुलिस मनचाहा सुविधा शुल्क भी वसूलती है, और यह भी नहीं देखती कि कबाड़ के अन्दर क्या रखा है। इस प्रकार सीमा क्षेत्र के गौरीफंटा, बनगवां, सूंडा, चंदनचौकी, कजरिया, सुमेरनगर, कमलापुरी, बसई, खजुरिया, संपूर्णानगर आदि कस्बों मे बेखौफ कबाड़ की दूकाने अवैध रूप से संचालित हो रही हैं।
पुलिस क्षेत्राधिकारी संजय नाथ तिवारी का कहना है कि कबाडियों पर पुलिस की नजर है। इनकी सूची तैयार कर उनकी निगरानी की जा रही है। सूचना मिलने पर ऐसे कारोबारियों पर कार्यवाही कर अवैध कारोबार पर अंकुश लगाया जाएगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments