Tuesday, January 26, 2021
Home बिहार भविष्यवाणी

भविष्यवाणी

नीतीश कुमार का करिश्मा ढलान पर, भाजपा से अंदरूनी चोट और कांग्रेस-राजद से मलहम की उम्मीद के आसार नहीं:- बाबा-भागलपुर

भागलपुर, बिहार। नीतीश कुमार के लिए वर्ष 2020 बेहद खराब रहा। बिहार विधानसभा चुनाव  में जदयू के खराब प्रदर्शन के बाद वो मुश्किलों में घिर गए हैं। इसके बाद उनकी पार्टी को अरुणाचल प्रदेश में झटका लगा, जहां जदयू के 7 में से 6 विधायकों ने पाला बदलकर भाजपा का हाथ थाम लिया। बिहार में भी राजद नीतीश की पार्टी की तोड़ने की कोशिश में लगी है। बिहार विधानसभा में कुल 243 सीटों में से 75 राजद के पास है। फिलहाल राजद गठबंधन के पास कुल 110 सीटें हैं, जिसमें कांग्रेस के 19 और वाम दल के विभिन्न घटक के 16 विधायक हैं इसलिए महागठबंधन को सरकार बनाने के लिए 12 और विधायकों की जरूरत है।
नीतीश कुमार की  पार्टी 2021 में उज्ज्वल भविष्य की उम्मीद कर रही है और इसके लिए पार्टी ने अपनी रणनीति भी बदल ली है। नीतीश कुमार ने पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष का पद छोड़ दिया है और राष्ट्रीय राजनीति में किसी भी तरह प्रवेश की कोशिश में हैं। नीतीश कुमार ने अपने बेहद खास रामचन्द्र प्रसाद सिंह को पार्टी प्रमुख की ज़िम्मेदारी देकर नई रणनीति की शुरुआत कर हैरान कर दिया है।
इस सम्बन्ध में अन्तरराष्ट्रीय स्तर पर ख्याति प्राप्त ज्योतिष योग शोध केन्द्र, बिहार के संस्थापक दैवज्ञ पं. आर. के. चौधरी उर्फ बाबा-भागलपुर, भविष्यवेत्ता एवं हस्तरेखा विशेषज्ञ ने सुगमतापूर्वक बतलाया कि:- रामचन्द्र प्रसाद सिंह जी की जन्मकुण्डली में विंशोत्तरी दशा के क्रम में शुक्र की महादशा में राहु की अन्तर्दशा नवम्बर 2022 तक है तथा शनि की साढ़ेसाती की शुरूआत हो चुकी है। इसलिए शुभ परिणाम मिलना मुश्किल है लेकिन नुकसान सुनिश्चित है। जबकि नीतीश जी की जन्मकुण्डली में योगकारक राहु में बुध की अन्तर्दशा के फलस्वरूप छल-प्रपंच व भावनात्मक विवशता से यानी येन-केन-प्रकारेण पार्टी को पुनः सत्ता में वापसी हुई। लेकिन पार्टी व नीतीश कुमार की कुण्डली में ग्रहों की प्रतिकूल गोचर व दशा की शुरुआत हो गई है। फलस्वरूप नीतीश जी की रणनीति सफल होना मुश्किल प्रतीत हो रहा है। खासकर नीतीश सरकार के लिए 15 जनवरी-से-अप्रैल 2021 तक खराब समय है। जबकि विंशोत्तरी दशा के क्रम में राहु महादशा में केतु की अन्तर्दशा अत्यंत प्रतिकूल व दुखद घटना की ओर इशारा कर रहा है। इसलिए शीघ्रताशीघ्र ज्योतिष उपाय करवाना चाहिए। जो मलहम से ज्यादा कारगर साबित हो सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments