Friday, January 22, 2021
Home बिहार जिला पदाधिकारी की अध्यक्षता में जिला कृषि टास्क फोर्स की बैठक

जिला पदाधिकारी की अध्यक्षता में जिला कृषि टास्क फोर्स की बैठक

बिहारशरीफ (नालंदा) जिला पदाधिकारी योगेंद्र सिंह की अध्यक्षता में आज हरदेव भवन सभागार में जिला कृषि टास्क फोर्स की बैठक आहूत की गई।
डेयरी से संबंधित समग्र गव्य विकास योजना के तहत वित्तीय वर्ष 2019-20 में विभिन्न बैंकों को वित्त पोषण हेतु 254 आवेदन भेजे गए थे, जिनमें से बैंकों द्वारा 144 आवेदकों को दुधारू मवेशियों के क्रय हेतु वित्तपोषण किया गया है।दुग्ध सहकारी समिति के पशुपालकों के किसान क्रेडिट कार्ड हेतु विभिन्न बैंकों को 854 आवेदन भेजे गए हैं, जिनमें बैंकों द्वारा कोई कार्रवाई नहीं की गई है। जिलाधिकारी ने इस पर नाराजगी व्यक्त करते हुए वरीय उप समाहर्ता बैंकिंग एवं जिला अग्रणी प्रबंधक को सभी बैंकर्स के साथ सभी प्रकार की योजनाओं से संबंधित बैंकों में लंबित आवेदनों की शाखावार तुरंत समीक्षा कर आवेदनों का निष्पादन सुनिश्चित कराने का निदेश दिया। समग्र गव्य विकास योजना के तहत वित्तीय वर्ष 2020-21 में निर्धारित लक्ष्य 220 के विरुद्ध कुल 1668 आवेदन प्राप्त किए गए हैं। इन सभी आवेदनों का सत्यापन कर इस माह के अंत तक संबंधित बैंक को भेजने का स्पष्ट रूप से जिलाधिकारी ने जिला गव्य विकास पदाधिकारी को निर्देश दिया। योजनाओं के क्रियान्वयन में शिथिलता बरतने के कारण जिलाधिकारी ने जिला गव्य विकास पदाधिकारी से स्पष्टीकरण भी पूछा।
पशुपालन विभाग द्वारा क्रियान्वित योजनाओं के तहत भी अपेक्षित प्रगति नहीं होने पर जिलाधिकारी ने जिला पशुपालन पदाधिकारी से भी स्पष्टीकरण मांगा।पशुपालकों के केसीसी के वित्तीय वर्ष2019-20 के अनेक आवेदन विभिन्न बैंकों में लंबित पाये गए।जिलाधिकारी ने वरीय उपसमाहर्ता बैंकिंग एवं एलडीएम को बैंक शाखावार लंबित आवेदनों की समीक्षा कर त्वरित निष्पादन सुनिश्चित कराने का निदेश दिया गया।
जिला उद्यान कार्यालय के माध्यम से क्रियान्वित राष्ट्रीय बागवानी मिशन के विभिन्न अवयवों के तहत भी पपीता की खेती(निजी क्षेत्र) एवं सघन बागवानी(आम) में निर्धारित लक्ष्य के विरुद्ध आंशिक उपलब्धि तथा मुख्यमंत्री बागवानी मिशन के तहत पपीता की खेती (निजी क्षेत्र) अवयव में शत प्रतिशत लक्ष्य की प्राप्ति को छोड़कर अन्य अवयवों में असंतोषजनक प्रगति पाई गई। जिलाधिकारी ने इस वर्ष की शेष अवधि में शत प्रतिशत लक्ष्य को प्राप्त करने का निदेश सहायक निदेशक उद्यान को दिया।जिला में भी फलदार पौधों की नर्सरी विकसित करने को कहा गया।
जिला मत्स्य पदाधिकारी को भी विभाग द्वारा क्रियान्वित सभी योजनाओं में निर्धारित लक्ष्य के अनुरूप वित्तीय वर्ष की शेष अवधि में प्रगति सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया।
जलवायु अनुकूल कृषि एवं जैविक कृषि को बढ़ावा देने के लिए जिला में चयनित क्लस्टर में निर्धारित लक्ष्य के अनुरूप कृषि कार्य किया जा रहा है। अन्य प्रखंडों एवं पंचायतों के किसानों को भी इस पद्धति के प्रति जानकारी देने एवं जागरूक करने के लिए इन क्लस्टर्स का परिभ्रमण कराने का निदेश दिया गया।इसके लिए रोस्टर/ कैलेंडर बनाने का निदेश प्रोजेक्ट डायरेक्टर आत्मा को दिया गया।
वर्तमान वित्तीय वर्ष में जिला में मात्र 473 सॉयल हेल्थ कार्ड दिया गया है। जिलाधिकारी ने इसपर असंतोष व्यक्त करते हुए निर्धारित लक्ष्य के अनुरूप मिट्टी के नमूने की जांच के आधार पर सॉयल हेल्थ कार्ड उपलब्ध कराने का निदेश दिया।
आत्मा के तहत जिला/प्रखंड स्तर पर गठित समितियों का नियमानुसार पुनर्गठन कराने का निदेश दिया गया।
पराली जलाने से रोकने के लिये जिला एवं प्रखंड स्तर पर गठित समितियों की नियमित बैठक करने एवं किसानों के बीच लगातार जागरूकता अभियान चलाने का निर्देश जिला कृषि पदाधिकारी को दिया गया।
जलवायु अनुकूल कृषि को बढ़ावा देने के उद्देश्य से राज्य सरकार द्वारा हैप्पी सीडर एवं जीरो टिलेज के आधार पर खेती करने के लिए अनेक प्रकार के कृषि यंत्रों पर सामान्य वर्ग के लिए 75 प्रतिशत तथा अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति एवं अति पिछड़ा वर्ग के किसानों के लिए 80 प्रतिशत अनुदान दिया जा रहा है। जिला पदाधिकारी ने कृषि यंत्रों के डीलर्स के साथ बैठक कर इन यंत्रों की उपलब्धता स्थानीय रूप से सुनिश्चित कराने का निर्देश दिया। इन यंत्रों के उपयोग को बढ़ावा देने के लिए किसानों को भी लगातार जागरूक करने का निर्देश दिया गया।
सभी किसान सलाहकार को नियमित रूप से पंचायत सरकार भवन तथा जहां पंचायत सरकार भवन नहीं है वहां पंचायत में निर्धारित स्थल से कार्य कराने का निर्देश दिया गया। निर्धारित स्थल पर इनकी उपस्थिति सुनिश्चित कराने के लिए जिला कृषि पदाधिकारी को प्रत्येक सप्ताह वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक सुनिश्चित करने को कहा गया।
बैठक में वरीय उप समाहर्ता बैंकिंग, जिला कृषि पदाधिकारी, जिला पशुपालन पदाधिकारी, प्रोजेक्ट डायरेक्टर आत्मा, जिला मत्स्य पदाधिकारी, जिला गव्य विकास पदाधिकारी, सहायक निदेशक उद्यान, जिला अग्रणी प्रबंधक सहित अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments